Latehar News: किसानो ने किया चमत्कार, बंजर जमीन पर उगा दिया स्ट्रॉबेरी का पौधा

Suraj Kumar
4 Min Read
जाने कैसे बंजर जमीन पर उगाए गए स्ट्रॉबेरी के पौधे

Latehar: सरकारी योजनाओं का सीधा लाभ ग्रामीणों को मिलता है अगर सरकारी अधिकारी जिम्मेदार और ईमानदार हैं। ग्रामीण जागरूक होकर सरकारी कार्यक्रमों का लाभ उठाएं तो इसका भी अच्छा असर होता है। लातेहार के भुसुर पंचायत में ये बातें चरितार्थ होती हैं। लातेहार में बंजर जमीन पर स्ट्रॉबेरी के फूल खिल गए हैं, जिला भूमि संरक्षण पदाधिकारी विवेक मिश्रा के प्रोत्साहन और सहयोग से और किसानों की मेहनत से।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

लातेहार सदर प्रखंड के भुसुर पंचायत में जमीन का बहुत सा हिस्सा बंजर था। यहां के किसान खेती को बहुत जानते हैं। लेकिन संसाधन और सलाह के अभाव में यहां के किसान पारंपरिक खेती पर निर्भर हैं। लातेहार जिला भूमि संरक्षण पदाधिकारी विवेक मिश्रा ने बंजर भूमि पर खेती की संभावना की खोज शुरू की जब उन्होंने यहां के ग्रामीणों का खेती के प्रति लगाव देखा।

- Advertisement -
स्ट्रॉबेरी के फूल
स्ट्रॉबेरी के फूल

यहां के युवा लोगों ने भूमि संरक्षण अधिकारी को बताया कि वे बेहतर खेती चाहते हैं। ग्रामीणों ने भूमि संरक्षण पदाधिकारी के निर्देश पर एक समिति बनाई। इस समिति को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से जोड़ा गया था, जो उन्नत खेती के स्थान पर पारंपरिक खेती की जगह लेता था।

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए ग्रामीणों ने जालिम कलां गांव के पास बंजर भूमि का चुनाव किया। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से पहले खेत को सिंचाई दी गई. फिर वहां स्ट्रॉबेरी की खेती की गई। अब स्ट्रॉबेरी फूल आना शुरू हो गया है। यह भी संभव है कि जल्द ही यहां स्ट्रॉबेरी के फल भी होंगे।

Also read: सवारी गाड़ी पलटने 1 युवक की मौके पर ही मौत 6 की हालत गंभीर

- Advertisement -

इस बारे में किसान और समिति के सचिव विक्रम कुमार गुप्ता ने बताया कि सुविधाओं की कमी के कारण ग्रामीण खेती नहीं कर पाते हैं। भूमि संरक्षण पदाधिकारी ने ग्रामीणों को प्रेरित किया और गांव में स्ट्रॉबेरी की पहली खेती की गई। उनका कहना था कि बेहतर मुनाफा मिलने की संभावना है। अगले वर्ष से स्ट्रॉबेरी की खेती में वृद्धि की जाएगी।

भूमि संरक्षण पदाधिकारी विवेक कुमार मिश्रा ने बताया कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत लातेहार के सात पंचायतों के 35 गांवों में ग्रामीणों को जागरूक किया जा रहा है और आधुनिक खेती की संभावनाओं को खोजा जा रहा है। उनका कहना था कि मृदा और जल संरक्षण करना इस परियोजना का मुख्य लक्ष्य है।

- Advertisement -
स्ट्रॉबेरी के फूल
स्ट्रॉबेरी के फूल

साथ ही ग्रामीणों को आधुनिक खेती से जोड़ा जाए, ताकि वे स्थानीय स्तर पर बेहतर रोजगार पा सकें और पलायन नहीं करना पड़े। उनका कहना था कि इस योजना के तहत यहां स्ट्रॉबेरी का उत्पादन किया जा रहा है। विभाग भी किसानों को सभी सुविधाएं देता है। उन्होंने कहा कि स्थानीय किसानों ने बंजर जमीन पर स्ट्रॉबेरी खेती की।

सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के बाद भुसुर पंचायत के किसानों ने बेहतर खेती की है। लातेहार जिला खेती में आत्मनिर्भर बन सकता है अगर अन्य गांवों के किसान भी इसी तरह का साहस दिखाएं।

- Advertisement -

Also read: झारखंड सिविल सर्विस के 342 स्थानो पर सरकार के तरफ से निकली गई वैकेंसी

Share This Article
Follow:
"मैं सूरज कुमार, एक अनुभवी कंटेंट राइटर, पिछले कुछ महीनो से "JoharUpdates" में न्यूज़ राइटर के रूप में कार्यरत हूँ। मैंने विनोभा भावे यूनिवर्सिटी से B.com किया हुवा है, और मुझे कंटेंट लिखना अच्छा लगता है इसलिए मैं इस वेबसाइट की मदद से अपने लिखे न्यूज़ को आप तक पंहुचाता हूँ। Email- suraj24kumar28@gmail.com
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *