Jamtara News: जामताड़ा के 12वी फैल के पास है राजस्थान के 20 करोड़ लोगो का डाटा

Suraj Kumar
4 Min Read
जामताड़ा के 12 वी फैल के पास है राजस्थान के 20 करोड़ लोगो का डाटा

Jamtara: यह आपको हैरान कर देगा अगर आप FACEBOOK, TWITER और INSTAGRAM जैसे अलग-अलग सोशल मीडिया साइटों का इस्तेमाल करते हैं। जयपुर पुलिस ने चार साइबर ठगों को गिरफ्तार किया है, खबर है। बॉलीवुड और हॉलीवुड की फिल्मों को ओटीटी प्लेटफार्म पर वेबसीरीज बेचने वाली कई कंपनियों ने इस धोखाधड़ी से करोड़ों रुपए खोए हैं।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

करोड़ों लोगों का व्यक्तिगत डाटा उनके पास से पुलिस ने चुरा लिया है। इस जालसाज़ों द्वारा मोडीफाइड डिवाइस में दो करोड़ से अधिक लोगों के फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम के यूजर नेम और पासवर्ड पाए गए हैं। ये बदमाश इतने मूर्ख हैं कि आपके सोशल मीडिया अकाउंट को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

- Advertisement -
मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की
मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की

राजस्थान के 20 करोड़ लोगो का मिला डाटा

जयपुर पुलिस ने जो साइबर ठगों को पकड़ लिया है उनके पास विश्व भर में 15 करोड़ से अधिक लोगों के क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, वैधता तिथि और सीवीसी नंबर हैं। साथ ही, लगभग 2 करोड़ से अधिक लोगों के विभिन्न सोशल मीडिया खातों के यूजरनेम और पासवर्ड भी प्राप्त हुए हैं। इन ठगों के कंप्यूटर में लगभग 1 करोड़ से अधिक लोगों का आधार कार्ड डाटा भी रखा गया है। इन ठगों के पास इतना व्यक्तिगत डाटा है कि किसी भी पॉलिटिकल पार्टी के पास भी नहीं होगा।

Also read: Ranchi News: विभाग ने JSSC को पत्र लिखा की सफल झारखण्ड के अभ्यर्थी भी बनेगे शिक्षक

जामताड़ा से शिक्षा लेकर ठगी शुरू की

बुधवार को विद्याधर नगर पुलिस ने सायबर ठगी का बड़ा खुलासा किया। डीसीपी उत्तर राशि डूडी डोगरा ने बताया कि बिहार के अभिषेक कुमार, जयपुर के बाबानी, भीलवाड़ा के राहुल कुमार और रोहित कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया था।

- Advertisement -

इन अपराधियों ने साइबर ठगी में कुख्यात जामताड़ा से ट्रेनिंग ली थी और ठगी की वारदातें शुरू की थीं। इनके निशाने पर मुख्य रूप से बाहरी लोग थे। आरोपियों ने क्रेडिट और डेबिट कार्डों से लाखों रुपए की ऑनलाइन खरीददारी की, फिर इन उत्पादों को अन्य कंपनियों को बेचकर धन प्राप्त किया।

ठगी के पैसे का ऑनलाइन निवेश

कई करोड़ रुपये इस गिरोह ने ठगे हैं। बिटकॉइन नामक वर्चुअल मनी में निवेश करते थे, जो ठगी गई राशि में बदल जाता था। ठगी के बड़े मामले देश भर में भी दर्ज हुए, लेकिन आरोपी गिरफ्तारी से बच रहे थे। विद्याधर नगर थाना प्रभारी दिलीप खदाव ने बताया कि आरोपी टेक्नोलॉजी में इतने पारंगत हैं कि वे अपनी ऑनलाइन लोकेशन को बाउंस करवा लेते थे। ऐसे में कोई भी इनकी जगह नहीं जान पाया।

- Advertisement -

Also read: Ranchi News: कॉन्स्टेबल के हत्यारे को पुलिस ने पकड़ा, लूट की घटना को अंजाम देते पकड़े गए

जयपुर पुलिस को मुखबिर से ठगी का नेटवर्क चलाने का पता चला। तकनीकी जांच के बाद सूचना की पुष्टि होने पर पुलिस ने दबिश दी और इस गैंग को पकड़ लिया। फिलहाल, चारों आरोपी छह दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। पूछताछ में और भी आश्चर्यजनक खुलासे हो सकते हैं।

- Advertisement -
Share This Article
Follow:
"मैं सूरज कुमार, एक अनुभवी कंटेंट राइटर, पिछले कुछ महीनो से "JoharUpdates" में न्यूज़ राइटर के रूप में कार्यरत हूँ। मैंने विनोभा भावे यूनिवर्सिटी से B.com किया हुवा है, और मुझे कंटेंट लिखना अच्छा लगता है इसलिए मैं इस वेबसाइट की मदद से अपने लिखे न्यूज़ को आप तक पंहुचाता हूँ। Email- suraj24kumar28@gmail.com
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *