Jamshedpur News: पश्चिम विधानसभा जमशेदपुर से चुनाव लड़ने के लिए पत्रकार अन्नी अमृता ने किया ऐलान

Devkundan Mehta
13 Min Read
पश्चिम विधानसभा जमशेदपुर से चुनाव लड़ने के लिए पत्रकार अन्नी अमृता ने किया ऐलान

Jamshedpur: जमशेदपुर के जेके रेसीडेंसी में एक संवाददाता सम्मेलन में वरिष्ठ पत्रकार अन्नी अमृता ने घोषणा की कि वे जमशेदपुर पश्चिम विधानसभा से चुनाव लड़ेंगे।वे अभी किसी पार्टी से नहीं मिले हैं और बतौर निर्दलीय प्रत्याशी चुनावी समर में भाग लेने की तैयारी कर रहे हैं।अन्नी अमृता की घोषणा, जिसमें कई महीने बाकी हैं और विधानसभा चुनाव से पहले होने वाले लोकसभा चुनावों से जुड़ा हुआ है, जमशेदपुर की राजनीति में दिलचस्पी बढ़ाती है और कुछ समय से कुछ नामों से घिरे हुए राजनीतिक परिदृश्य में एक नया अध्याय जोड़ती है।अन्नी अमृता ने कहा, “मुझे अंजाम की परवाह नहीं है, बस अपनी प्रयास करना है।”सब कुछ ईश्वर की मर्जी में है। बुद्धिजीवी लोगों को राजनीति में आना चाहिए, क्योंकि लोगों को लगता है कि राजनीति गंदी है और नेता गंदे हैं।सिर्फ आलोचना पर्याप्त नहीं होगी।बड़ी लकीर निकालनी होगी।जब बेहतर विकल्प उपलब्ध होंगे, तो जनता भी अपने वोट के दर्द को बदल सकती है।‘’

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

राजनीति जनसेवा का साधन है, न कि भ्रष्टाचार का

चुनाव लड़ने के लिए पत्रकार अन्नी अमृता ने किया ऐलान
चुनाव लड़ने के लिए पत्रकार अन्नी अमृता ने किया ऐलान

Анनी अमृता ने कहा कि उन्होंने पत्रकारिता के माध्यम से लोगों की सेवा की है और राजनीतिक प्लेटफार्म पर भी ऐसा करने का इरादा है। उनका कहना था कि लूट-खसोट की जगह राजनीति समाज और देश को आगे बढ़ाने का नाम है।Anny ने पूछा कि क्या राजनीति गंदी है या इसे गंदा करने वाले हैं?ये विचार करने योग्य है।पुलिस और अपराधी दोनों बंदूक चलाते हैं, लेकिन क्या अंतर है?इरादे में फर्क है।इसलिए गलत बंदूक नहीं, बल्कि गलत इस्तेमालAnny ने कहा कि आज हर कोई घर या कार्यालय में प्रदर्शन कर रहा है..।पति, पिता, भाई या प्रोफेशनल के रूप में दिन-प्रतिदिन बेहतर बनने का प्रयास, मां, पत्नी या बहन के रूप में बेहतर बनने का प्रयास, और फिर भी वह खुद को एक कटघरे में पाता है जहां सौ प्रतिशत लोग खुश नहीं होते।फिर राजनीति में जाति और धर्म का प्रभुत्व कैसे होता है?कैसे नेता लोगों को काम में सुधार की जगह अपने स्वार्थ के लिए मूर्ख बनाने लगते हैं? यह क्यों होता है?Jamshedpur के लोगों का क्या विचार है? जनता में इतनी शक्ति नहीं है कि वह अपने वोट से राजनीति को साफ करने की कोशिश करे।राजनीति गंदी है कहने के बजाय अच्छे लोगों का स्वागत करना चाहिए?बदलाव स्वयं शुरू होता है..।तब बहुत कुछ बदल जाता है।

- Advertisement -

जमशेदपुर पश्चिम में ऐसा नहीं होना चाहिए था।

Anny ने चुनाव के मुद्दों पर कहा कि जमशेदपुर पश्चिम की जनता को सीधे प्रभावित करने वाला एक बड़ा मुद्दा स्वास्थ्य है।इस क्षेत्र में कोई बड़ा सरकारी चिकित्सा संस्थान नहीं है।TMH जाकर इलाज करना सबकी क्षमता से बाहर है।MGSM जमशेदपुर पूर्वी क्षेत्र में एकमात्र सहारा है, जिसकी स्थिति सार्वजनिक है।एंबुलेंस के लिए लोग तरसते हैं। मीडिया ने हर दिन मरीजों को ठेले पर लादकर लाते देखा है।स्वास्थ्य क्षेत्र में आज भी जनता प्राइवेट नर्सिंग होमों पर निर्भर है, जहां वे जीवन भर की कमाई खर्च करने के बावजूद बेहतर इलाज पाने में असमर्थ हैं।आयुष्मान कार्डधारी भी परेशान हैं, बहुत सी शिकायतें आती हैं, जो ट्वीटर (X) पर मामलों की भरमार करती हैं।

जनता को बेहतर शिक्षण संस्थानों की कमी है।यहां इतने कॉलेज नहीं हैं, खासकर महिलाओं के लिए।उदाहरण के लिए, सोनारी शहर की गरीब छात्रा अगर सीयूइटी न कर पाए तो कहां पढ़ेगी?जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज यूनिवर्सिटी अब CUU से जुड़ गया है। सामर्थ्यवान लोग बारहवीं के बाद अपने बच्चों को बाहर पढ़ने के लिए भेजते हैं। विद्यार्थी पलायन जारी है।यहां रोजगार बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा है। इस क्षेत्र में जाम एक बड़ी समस्या है।स्वर्णरेखा नदी पर डोबो पुल बनने के बाद भी, मानगो पुल पर महाजाम लगने के बाद भी उत्तरी पश्चिमी कॉरीडोर पूरा नहीं होगा।यहां जाम और दुर्घटनाओं से पीड़ित इस क्षेत्र में एक फ्लाईओवर बनाने में राजनीति और उद्योग जगत का कैसा समन्वय था, यह हैरान करता है।आज भी शहर में भारी वाहनों का प्रवेश एक बड़ा सवाल है।

चुनाव लड़ने के लिए पत्रकार अन्नी अमृता ने किया ऐलान
चुनाव लड़ने के लिए पत्रकार अन्नी अमृता ने किया ऐलान

आज भी मानगो, आजादनगर और पूरे क्षेत्र में जुस्को (टाटा स्टील यू आईसी एल) की बिजली नहीं मिलती।जमशेदपुर के टिस्को क्षेत्र में 24 घंटे बिजली उपलब्ध है, लेकिन मानगो और सोनारी जैसे अन्य क्षेत्रों में बिजली की कमी है।मानगो और जमशेदपुर पश्चिम की गैर टिस्को बस्तियां एक तरह से हाशिए पर हैं।बरसात के दिनों में बहुत से क्षेत्र बाढ़ और जलजमाव का शिकार होते हैं। जमशेदपुर पश्चिमी मरीन ड्राइव क्षेत्र बीमार हो गया है।यहां कचरे की भारी मात्रा का पता चलता है कि कचरा प्रबंधन की योजना को व्यापक रूप से लागू नहीं करने के परिणामस्वरूप स्थानीय निवासियों ने इसका सामना करना पड़ा है। यहां के बिष्टुपुर, सोनारी, मानगो और अन्य क्षेत्रों के बाजार का भी पता है।मार्केट क्षेत्र की वृद्धि कभी मुद्दा नहीं बन गई।

- Advertisement -

आज, भुवनेश्वर, लखनऊ, इंदौर जैसे छोटे शहर स्वच्छता सर्वेक्षण की दौड़ में आगे बढ़ रहे हैं, जबकि जमशेदपुर स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत हजार करोड़ से वंचित है। यदि ऐसा हुआ तो जमशेदपुर पश्चिम में भी विकास होगा।फिर टिस्को और गैर टिस्को क्षेत्रों का विकास होता।स्वच्छता सर्वेक्षण में अब भी कमजोर है।जिस तरह से आबादी बढ़ रही है, विकास का रोडमैप स्पष्ट रूप से नहीं बनाया जा रहा है। Anny ने कहा कि बहुत सारे मुद्दे हैं जिसे कम समय में बताना मुश्किल है।इस चुनाव में उपरोक्त मुद्दों के अलावा अन्य मुद्दों को उठाया जाएगा।

Also Read: कोडरमा में मचा राम भक्तो का शोर, गूंज रहे बस जय श्री राम के नारे

- Advertisement -
Share This Article
Follow:
मेरा नाम देवकुंदन मेहता हैं, मैं झारखण्ड राज्य का निवासी हूँ। मैं एक Content Writer, Creator, Editor और Student हूँ। यहाँ JoharUpdates पर अपनी लिखने की कला को प्रदर्शित करने के लिए पार्ट टाइम न्यूज़ लिखता हूँ। मैं कोडरमा जिले का निवासी हूँ इसलिए अपने आस-पास के जिलों के न्यूज़ को कवर करता हूँ। मझे न्यूज़ भेजने या मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे मेरे ईमेल "dkdevkundan@gmail.com" पर ईमेल कर सकते है।
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *