Dhanbad News: BCCL के अचानक फैसले से 600 से अधिक स्थानीय कर्मचारी हुए बेरोजगार

Sahil Kumar
3 Min Read
BCCL के अचानक फैसले से 600 से अधिक स्थानीय कर्मचारी हुए बेरोजगार

Dhanbad: पुटकी, प्रतिनियुक्ति मुनीडीह में संचालित इंदू आउटसोर्सिंग कंपनी द्वारा मुनीडीह कोलियरी के अंडरग्राउंड उत्खनन स्थल को 15 नंबर सीमा को अचानक बंद करने की घोषणा करने से सैकड़ों कर्मचारियों को नौकरी से हुए बेरोजगार। साथ ही, कंपनी को बंद करने के आदेश के बाद, बीसीसीएल का उद्देश्य अंडरग्राउंड माइनिंग करके कोयला निकालने का सपना अधर में गिर गया है।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

कम्पनी ने बुधवार की शाम को एक नोटिस जारी किया था जिसके बाद बालूडीह में 15 नंबर सीम का काम बंद हो गया था, साथ ही 16 नंबर सीम का भी काम बंद हो गया था। बुधवार की रात्रि पाली से ही किसी भी कर्मचारी को खदान में प्रवेश नहीं दिया गया था। Biometric attendance system भी बंद कर दिया गया।

- Advertisement -
coal mine
coal mine

 कम्पनी के अचानक फैसले से लगभग 600 स्थानीय कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं। मुनीडीह दुर्गा मंदिर के आसपास कर्मचारियों की एक बैठक हुई। प्रदर्शन किया और वेस्टर्न झरिया एरिया के मुख्यमंत्री को आवेदन देकर जल्द ही वार्ताकार खदान शुरू करने की मांग की। 

Also read : प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर मनाये जा रहे उत्सव के दौरान विपक्ष ने किया झगड़ा

पश्चिमी झरिया क्षेत्र के जीएम जे एस महापात्रा ने कहा कि व्यवसाय को निर्धारित एनआईटी के तहत काम करना होगा। नवीन दर नहीं दी जाएगी।

- Advertisement -

बताया जाता है कि बीसीसीएल कंपनी इंदू को एडवांस राशि देने के बदले बैंक गारंटी चाहती है, लेकिन यह मामला अभी भी निश्चित नहीं हो पाया है। इंदू कंपनी को बंद करने के आदेश के बाद, बालूडीह स्थित कंपनी के गेट पर एक सीआईएसएफ और एक निजी गार्ड तैनात थे, 

और कंपनी के कार्यालय के सामने दो गार्ड तैनात थे। मजदूर नेता अजीत सिंह ने बताया कि कंपनी की जल्दबाजी के फैसले से 15 नवंबर के 400 और 16 नवंबर के 200 कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं। यदि बीसीसीएल प्रबंधन जल्दी कोई निर्णय नहीं लेता, 

- Advertisement -

तो खदान का पंपिंग और एयर सप्लाई सिस्टम ठप हो जाएगा। अजीत सिंह, सुनील सिंह, कुंदन कुमार, महेंद्र दास, करमचंद सिंह, टिंकू सिंह, शम्भु सिंह, अशोक महतो सहित दो सौ कर्मचारियों ने बैठक में भाग लिया।

प्रति मीटर कटिंग पर एक लाख का नुकसान

काम कर रहे लोग हुए बेरोजगार
काम कर रहे लोग हुए बेरोजगार

इंदू कंपनी के HR RK Sharma ने कहा कि कोल कटिंग में भारी नुकसान के बाद बंद करने का फैसला किया गया था और नोटिस जारी किया गया था। जबकि बीसीसीएल प्रति मीटर 50 हजार रुपए कटिंग पर खर्च करता है, कंपनी डेढ़ से दो लाख रुपए खर्च करती है। 

- Advertisement -

उनका कहना था कि ऊपर से सतही जांच और अंडरग्राउंड भूगर्भीय साइंटिफिक स्टडी में बहुत फर्क है। इससे काफी नुकसान हुआ। बीसीसीएल को पिछले तीन महीने से पत्राचार द्वारा सूचित किया गया था।

Also read : गांव वालो ने चंदा मांग कर बनाई सड़क ‘जाने पूरा मामला’

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *