Ranchi News: टाटा स्टील की तरफ से करवाया गया किसानों को 3 दिन तक उन्नत कृषि का ट्रेनिंग

Suraj Kumar
2 Min Read
किसानों को टाटा स्टील की तरफ से करवाया गया खेती की ट्रेनिंग

Ranchi: टाटा स्टील फाउंडेशन ने नोवामुंडी और कटामाटी क्षेत्र के 15 गांवों (महुदी, सरबील, जामपानी, बड़ा बलजोड़ी, गुंडीजोड़ा, सानबड़बिल, पुटुगांव, नया कृष्णापुर, पुरुषोतमपुर, कुटुरपोसी, जुगुदीधारा, कांडरा, दामपुर, सियालीजोड़ा, महादेवनासा) के 60 किसानों को 3 दिवसीय उन्नत कृषि और पशुधन पर एक्सपोजर पहले दिन, किसानों ने एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन (IPM),

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

पोषण वाटिका, जीवामृत, घंजीवमृत, बीजामृत और नाडेप खाद बनाने के बारे में सीखा। IPM भी लाभदायक और नुकसानदायक नीला-पीला स्टिकी ट्रैप बताया। कीट और बीमारियां भी बताई गईं। साथ ही अपने जैविक प्रबंधन को भी जानकारी दी गई थी। दूसरे दिन, किसानों को जीविक कीटनाशक (जैसे कट्टा मट्टा फफुंदनासक, नीमस्त्र, अग्नियास्त्र और गोबर हिंग) और विभिन्न प्रकार के जैविक उर्वरक और कीटनाशकों पर अभ्यास कराया गया। जो उन्हें थ्योरी कक्षा में सिखाया गया था।

- Advertisement -
3 दिन तक उन्नत कृषि का ट्रेनिंग
3 दिन तक उन्नत कृषि का ट्रेनिंग

किसानों ने बकरी, भेड़, मुर्गी, बत्तख और सूअर पालन भी सीखा। तीसरे दिन, किसानों को प्रोट्रे का चयन, कोकोपीट, केंचुआ खाद और स्वस्थ बिचड़ा उत्पादन के लिए बीज बोने का अभ्यास कराया गया। किसानों ने ब्राजीलियन कालीमिर्च का पेड़, सीप, स्ट्रॉबेरी और तरबूज की खेती भी की।जानकारी हासिल की। किसानों ने 3 दिवसीय एक्स्पोज़र सह प्रशिक्षण से आने के बाद काफी बदलाव देखा। किसानों ने प्रतिज्ञा की कि वे अपने खेती प्रणाली में परिवर्तन करेंगे, पोषण वाटिका बनाएंगे और दूसरों को प्रशिक्षण देंगे।

Also read: प्यार के चक्कर में एक शिक्षक ने ली अपने साथ पढ़ाने वाले 2 शिक्षको की जान

टाटा स्टील फाउंडेशन की ओर सेनोवामुंडी और कटामाटी क्षेत्र के 15 गांवों (महुदी, सरबिल, जामपानी, बड़ा बालजोड़ी, गुंडीजोड़ा, सानबड़बिल, पुटुगांव, नयाकृष्णापुर, पुरुषोत्तमपुर, कुटुरपोसी, जुगुदीधारा, कांडरा, दामपुर, सियालीजोड़ा, महादेवनासा) के 60 किसानों को तीन दिवसीय उन्नत कृषि और पशुधन पहले दिन, किसानों ने एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन (आईपीएम), पोषण वाटिका, सब्जियों की नर्सरी और जैविक खाद (जैसे जीवामृत, घंजीवमृत, बीजामृत, नाडेप खाद) बनाने के बारे में सिखाया। IPM भी लाभदायक और नुकसानदायक नीला-पीलास्टिकी ट्रैप की जानकारी देता है।

- Advertisement -

Also read: हड़गड़ी पूजा का आयोजन कर के गाँववालों ने अपने पूर्वजो को दी श्रद्धांजलि

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *