Giridih News: समाज सेवी प्रसादी मिस्त्री की दर्दनाक निधन, अधिकांश समुदायों ने अर्थी को दिया कंधा

Raja Vishwakarma
2 Min Read
प्रसादी मिस्त्री की दर्दनाक निधन

Giridih:- बुधवार को गावां के बादीडीह बादीडीह निवासी 75 वर्षीय समाज सेवी प्रसादी मिस्त्री की दर्दनाक निधन ने इंसानियत का उदाहरण प्रस्तुत किया। मृत्यु की खबर सुनते ही गांव में शोक छा गया। तब दोनों समुदायों के लोग अपने घर पहुंचे।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

तब से, इनकी शवयात्रा हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक बन गई। दोनों समुदायों ने समाजसेवी प्रसादी मिस्त्री के अर्थी को कंधा देकर श्मशान घाट पहुंचाया। साथ ही, अधिकांश समुदायों ने अर्थी को कंधा दिया। यही नहीं, मोहमद यूसुफ अली ने कहा कि हर गली-मोहल्ले में इनके जैसे दयालु आदमी होना चाहिए। प्रसादी मिस्त्री एक मिलनसार और समाज सेवी व्यक्ति थे।

- Advertisement -

Also Read: Deoghar News: देवघर के सरकारी स्कूलों में उपस्थिति बढ़ाने के लिए सिटी बजाओ का आयोजन

बादीडीह पंचायत में उनकी मौत की सूचना मिलते ही शोक फैल गया। राजनीतिक दलों के सदस्यों सहित हर व्यक्ति अपने घर पहुंचा और अपने परिवार को सांत्वना दी। हजारों हिन्दू-मुस्लिमों ने उनकी शवयात्रा में भाग लिया। सकरी नदी में अंतिम विवाह हुआ।

अधिकांश समुदायों ने अर्थी को दिया कंधा
अधिकांश समुदायों ने अर्थी को दिया कंधा

उस समय दोनों समुदाय से कई लोग मौजूद थे, जिनमें मोहमद यूसुफ अली, मकशूद, सुभान, छड़ीदर मकसूद, असलम, सादर जैनुल, अशोक यादव, सुरेश मंडल, अशोक मिस्त्री, महेंद्र यादव, मोहमद जैनुल, दिवाकर बरनवाल, किशोरी साव, सकीचंद साव और सड़कों पर कई लोग शामिल थे।

- Advertisement -
Share This Article
Follow:
मेरा नाम राजा विश्वकर्मा है और मैं पिछले कुछ महीनो से इस वेबसाइट 'JoharUpdates' में लेखक के रूप में काम कर रहा हूँ। मैं झारखण्ड के अलग-अलग जिलों से खबरों को निकलता हूँ और उन्हें इस वेबसाइट की मदद से प्रकाशित करता हूँ। मैंने इससे पहले कोई और जगहों पर काम किया हुवा है और मुझे लेख लिखने में 2 सालो का अनुभव है। अगर आपको मुझसे कुछ साझा करना हो या कोई काम हो तो आप मुझे "bulletraja123domcanch@gmail.com" के जरिये मुझसे संपर्क कर सकते है।
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *