Ranchi News: झारखंड के एक गांव में सभी परिवार की एक बेटी खेलती है फुटबॉल

Suraj Kumar
4 Min Read
फुटबॉल खेलने के लिए माताओं ने अपनी बेटियों का उत्साह बढ़ाया

Ranchi: झारखंड खेल क्षेत्र में हॉकी और फुटबॉल में राष्ट्रीय नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाना जाता है। यहाँ की बेटियों ने हॉकी में विश्व भर को लोहा मनवाया है, साथ ही फुटबॉल में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। इनकी इसी प्रतिभा ने इन्हें भारतीय टीम में भी स्थान दिया है।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

फुटबॉल के प्रति आकर्षण भी लगातार बढ़ रहा है। झारखंड के रांची जिले के एक गांव चारीहुजीर में भी फुटबॉल है। ये झारखंड का एकमात्र गांव है जहां हर घर की एक बेटी फुटबॉल खेलती है और झारखंड की टीम से लेकर भारत की टीम में जगह बना चुकी है। यहाँ के लड़के भी बेटियों को देखकर फुटबॉल खेलते हैं। अभ्यास कर रहे हैं। प्रयास दस वर्ष पहले शुरू हुआ था: चारीहुजीर गांव के मैदान में हर दिन दो सौ से तीन सौ बालिका फुटबॉल खेलती दिखती हैं।

- Advertisement -
footbaal
footbaal

2013 में 10 साल पहले इसकी शुरुआत हुई। फुटबॉल कोच आनंद गोप ने बताया कि 15 लड़कियों ने शुरुआत की। लड़के उस समय अभ्यास करने के लिए मैदान में आने पर इनका मजाक उड़ाते थे। गांव के कुछ लोगों को भी आपत्ति थी कि लड़कियों को हाफ पैंट पहनकर फुटबॉल खेलना चाहिए था। इसके बाद मैंने गांव के लोगों को इस खेल के बारे में बताया। इसमें मुझे छह महीने लगे, लेकिन बाद में गांव के लोग राजी हो गए। लड़कियां धीरे-धीरे क्षेत्र में आने लगी।

अगले ही झारखंड फुटबॉल टीम में 4 से 5 लड़कियों का चयन किया गया। जब वह गांव में राष्ट्रीय प्रतियोगिता खेलकर वापस आई, लोग उनके और गांव के बारे में अधिक जानने लगे। तब हर घर ने अपनी बेटियों को फुटबॉल खेलने के लिए भेजना शुरू किया। आज 250 से 300 बालिका यहां फुटबॉल खेलती हैं। वहीं नेहा कुमारी और अंशु कच्छप के आइकॉन बनने के बाद फुटबॉल का क्रेज और भी बढ़ा।

Also read: जाने झारखंड के किस जिले में सबसे सस्ता है डीज़ल-पेट्रोल

- Advertisement -

गांव के 300 परिवारों से आती है बेटियां फुटबॉल खेलने

footbaal
footbaal

चारीहुजीर गांव हुंडुर पंचायत में आता है। लगभग 300 घरों में बेटियां फुटबॉल खेलने आती हैं। इस पंचायत की मुखिया रजनी देवी बताती हैं कि लड़कियों को फुटबॉल का प्रशिक्षण देना शुरू करने पर विरोध भी हुआ था। लेकिन आज हालात बदल चुके हैं। अब हुंडुर पंचायत के हर गांव की लड़कियां फुटबॉल का प्रशिक्षण लेने आती हैं। हमें भी गर्व है कि यहां की अनिता कुमारी और नीतू लिंडा भारतीय महिला फुटबॉल टीम और फीफा विश्व कप खेल चुकी हैं।

माँ ने अपनी बेटियों का उत्साह बढ़ाया

अभ्यास के लिए पहले कम लड़कियां आती हैं। लेकिन अब जागरुकता बढ़ी है और माताओं ने अपनी बेटियों को फुटबॉल खेलना सिखाना शुरू कर दिया है। पूरे गांव और पंचायत के लगभग हर गांव की लड़कियां अब यहां अभ्यास करने आती हैं।

- Advertisement -

Also read: 10वीं क्लास के विद्यार्थी की हुई सड़क हादसे में मौत

Share This Article
Follow:
"मैं सूरज कुमार, एक अनुभवी कंटेंट राइटर, पिछले कुछ महीनो से "JoharUpdates" में न्यूज़ राइटर के रूप में कार्यरत हूँ। मैंने विनोभा भावे यूनिवर्सिटी से B.com किया हुवा है, और मुझे कंटेंट लिखना अच्छा लगता है इसलिए मैं इस वेबसाइट की मदद से अपने लिखे न्यूज़ को आप तक पंहुचाता हूँ। Email- suraj24kumar28@gmail.com
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *