Koderma News: गिद्धों को बचाने की अनूठी पहल की हुई शुरुआत, झारखंड में खुला ‘गिद्ध रेस्तरां’

Devkundan Mehta
3 Min Read
गिद्धों को बचाने की अनूठी पहल की हुई शुरुआत, झारखंड में खुला 'गिद्ध रेस्तरां'

Koderma: कोडरमा के डिविजनल फोरेस्ट ऑफिसर सूरज कुमार ने बताया कि गिद्धों के लिए यह खास रेस्तरां तिलैया नगर परिषद में एक हेक्टेयर जमीन पर बनाया गया है। चंदवाड़ा ब्लॉक में एक और ऐसा ही रेस्तरां शुरू करने की योजना है।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

विस्तृत

झारखंड में गिद्धों को बचाने के लिए एक महत्वपूर्ण अभियान शुरू किया गया है। इस पहल के तहत झारखंड के कोडरमा में गिद्ध रेस्तरां की शुरुआत की जा रही है। गिद्धों को इस रेस्तरां में खाना मिलेगा। वास्तव में, गिद्धों की मृत्यु दर को कम करने के लिए यह कदम उठाया गया है। यह गिद्ध रेस्तरां कोडरमा में बन गया है और जल्द ही शुरू हो जाएगा।

- Advertisement -
गिद्ध
गिद्ध

गिद्ध रेस्तरां क्या है?

नियमों के अनुसार, इस रेस्तरां में गिद्धों को डाइक्लोफीनेक मुक्त जानवरों के शव मिलेंगे। नजदीकी नगर पालिका और गौशाला से ये दाइक्लोफेनिक मुक्त जानवरों के शव रेस्तरां में भेजे जाएंगे। कोडरमा के डिविजनल फोरेस्ट ऑफिसर सूरज कुमार ने बताया कि गिद्धों के लिए यह खास रेस्तरां तिलैया नगर परिषद में एक हेक्टेयर जमीन पर बनाया गया है। चंदवाड़ा ब्लॉक में एक और ऐसा ही रेस्तरां शुरू करने की योजना है।

गिद्ध इकोसिस्टम के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण

गिद्ध
गिद्ध

गिद्ध हमारे पर्यावरण में बहुत महत्वपूर्ण हैं। वास्तव में गिद्ध जानवरों और पशुओं के शवों को खाकर हमारे पर्यावरण को साफ रखते हैं, लेकिन बीते कुछ सालों में देश में गिद्धों की संख्या में तेजी से गिरावट आई है, जो कई जगहों पर विलुप्त होने के कगार पर है। गिद्धों को बचाने की कोशिशें तेज हो गई हैं क्योंकि उनके पूरी तरह से विलुप्त होने से पारिस्थितिकी तंत्र को खतरा होगा।

दाइक्लोफीनेक औषधि से मर रहे गिद्ध

डाइक्लोफीनेक दरअसल संक्रमण और बुखार को ठीक करने के लिए एक दवा है। डाइक्लोफीनेक दवा को खाने वाले जानवरों की मौत के बाद उनके शव गिद्धों द्वारा खाए जाते हैं, इससे गिद्धों की किडनी खराब हो जाती है और अंततः गिद्ध मर जाते हैं।

- Advertisement -

यही कारण है कि कोडरमा में खुले गिद्ध रेस्तरां में डाइक्लोफीनेक के बिना भेजे जाने वाले जानवरों के शवों का नियम बनाया गया है। कोडरमा में गिद्ध लगभग खत्म हो गए थे, लेकिन वन विभाग की कोशिशों से अब धीरे-धीरे गिद्धों की संख्या बढ़ रही है. गिद्ध रेस्तरां के विचार से इस संख्या में और बढ़ोतरी होगी।

Also Read: पारा चढ़ा 0 पर-ठण्ड बढ़ी जोरो-सोरो से, जानिए अपने शहर का हाल

- Advertisement -
Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *