Khunti News: 2 ईसाई परिवार के हाथ में अक्षत लेते ही छलके आंसू कहा कि भटक गए थे हम

Suraj Kumar
3 Min Read
_2 ईसाई परिवार ने हाथ में अक्षत लेते ही छलके आंसू कहा कि भटक गए थे रस्ते

Khunti : खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड के जरिया पंचायत के पाटपुर गांव में 85 घर हैं, जिनमें से 81 घर ईसाई हैं। मतांतरित 2 परिवारों ने बुधवार को अयोध्या का पूजित अक्षत और निमंत्रण पत्र लेकर सनातन धर्म में वापसी की। उसने कहा कि भगवान राम से मिलने की बहुत इच्छा है।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

पूरे देश में अयोध्या में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा उत्सव को लेकर उत्साह और श्रद्धा का भाव है। हम भगवान राम की आराधना के कई रूपों को देखते हैं। लोग जल्द ही अयोध्या जाकर रामलला को देखने के लिए उत्सुक हैं। धर्म के इस निरंतर प्रवाह से कुछ समय के लिए भटक चुके लोग भी अब अपनी मूल धाराओं की ओर लौटने लगे हैं।

- Advertisement -
_2 ईसाई परिवार ने हाथ में अक्षत लेते ही छलके आंसू
_2 ईसाई परिवार ने हाथ में अक्षत लेते ही छलके आंसू

लोगों ने कहा कि बहकावे में आकर रास्ता भटका

खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड के जरिया पंचायत के पाटपुर गांव में बुधवार को रामभक्त पहुंचे, जहां पूर्व में मतांतरित होकर ईसाई बन चुके 2 परिवारों ने घर वापसी की।

दोनों परिवारों ने कहा कि भगवान राम उनके आराध्य देव हैं। हम बीच में कुछ लोगों की बहकावे में आकर दूसरे पंथ में चले गए। अब भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा देखकर हम खुद को रोक नहीं पाए। राम से मिलने की इच्छा हमारे मन में है। हम जल्द ही अयोध्या जाएंगे। यह कहते ही राजेंद्र चीक बड़ाईक और उमेश चीक बड़ाईक भावुक हो गए।

Also read: West Singhbhum News: प. सिंहभूम में मिला IED, बिहार के CM की रैली स्थगित

- Advertisement -

गांव के 85 परिवारों में 81 घरों को स्थानांतरित किया गया था

इन दोनों परिवारों ने बुधवार को सनातन धर्म में घर वापसी की। सबका स्वागत विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने किया।

राजेंद्र चीक बड़ाईक और उमेश चीक बड़ाईक ने कहा कि 22 जनवरी को भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर हम लोग अपने घरों में सत्यनारायण भगवान की कथा सुनेंगे और फिर अयोध्या जाकर रामलला को देखेंगे।

- Advertisement -

पाटपुर गांव में कुल 85 परिवार रहते हैं, विहिप प्रखंड अध्यक्ष महेश सिंह ने बताया। 81 घरों ने ईसाई धर्म अपनाया है। हिंदू धर्म केवल चार घरों में था।

Also read: JSSC: 26000 शिक्षक की भर्ती परीक्षा की नई तिथि घोषित

- Advertisement -

राजेंद्र और उमेश तथा उनके परिवार ने बुधवार को विहिप और बजरंग दल के लोगों द्वारा पूजित अक्षत वितरण करने के दौरान अपनी इच्छा व्यक्त की कि वे भी रामयात्रा में भाग लेंगे। उन्हें पूजित अक्षत दिया गया, जिसे उन्होंने पूरी श्रद्धा से माथे से लगाकर अपने घर में रखा, देखकर उनका उत्साह बढ़ गया।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *