डायरिया से पीड़ित एक महिला की इलाज के दौरान मौत

Sandeep Sameet
2 Min Read
डायरिया से पीड़ित एक महिला की इलाज के दौरान मौत

देवाकी कुसुमटोली (गुमला): डायरिया घाघरा प्रखंड क्षेत्र की देवाकी कुसुम टोली में फैल गया है। इलाज के दौरान आज गांव की 35 वर्षीय प्रतिमा उरांव की मौत हो गई। एक सप्ताह पहले एक महिला को डायरिया हुआ था। इसके बाद गांव में इसका प्रकोप एकाएक बढ़ा। देखते-देखते हालात इतने खतरनाक हो गए कि पूरा गांव भयभीत हो गया। बुधवार रात में अचानक 12 से अधिक लोगों को डायरिया हो गया। बाद में सभी को गुमला-लोहरदगा और रांची के निजी अस्पतालों में सुरक्षित भर्ती कराया गया।

Whatsapp ChannelJoin
TelegramJoin

ग्रामीणों का कहना है कि गांव में अभी 16 लोगों में डायरिया है। जबकि कुछ लोगों के पास पर्याप्त धन नहीं है, वे झोलाछाप चिकित्सकों से इलाज कराने को मजबूर हैं. कुछ लोग निजी अस्पतालों में अपना इलाज करा रहे हैं। कुछ लोग खुद दवा खरीदकर खाते हैं और स्वयं अपना इलाज करते हैं। डायरिया से पीड़ित लोगों की हालत खराब होती जा रही है। लेकिन घाघरा और गुमला जिला मुख्यालय के स्वास्थ्य विभाग, साथ ही संबंधित उच्च पदाधिकारी और कर्मचारी ने कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं की। प्रखंड मुख्यालय के संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों ने भी झांकने से इनकार कर दिया।

डायरिया से पीड़ित एक महिला की इलाज के दौरान मौत
डायरिया से पीड़ित एक महिला की इलाज के दौरान मौत

गांव में स्वास्थ्य कैंप लगाया जाएगा—बीडीओ

घाघरा प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) दिनेश कुमार से इस बारे में बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि उन्हें अभी तक कोई सूचना नहीं मिली है। मैं सिर्फ तुम्हें जानता हूँ। उनका कहना था कि देवाकी कुसुमटोली में जल्द ही एक स्वास्थ्य कैंप स्थापित किया जाएगा। स्वास्थ्य कैंप तब तक चलाया जाएगा जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाएंगे। उन्होंने साफ-सफाई, पेयजल और अन्य आवश्यक मूलभूत सुविधाओं को गांव में उपलब्ध कराने का वादा किया।

Categories

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *