Deoghar News: बाबा बैद्यनाथ के मंदिर में भी होती है, राम और हनुमान जी की पूजा

Raja Vishwakarma
3 Min Read
_बाबा मंदिर में पूजा जाता है, राम दरबार

Deoghar:- इस मंदिर में हनुमान और राम की पूजा का महत्व है। राम मंदिर लगभग 60 फीट लंबा और 35 फीट चौड़ा है। राम मंदिर के शिखर पर पहला तांबे का कलश लगाया गया था। इसके ऊपर एक पंचशूल भी है।

Whatsapp Channel Join
Telegram Join

12 ज्योतिर्लिंगों में से द्वादश, बाबा बैद्यनाथ मंदिर और इसके आसपास के सभी मंदिरों का पौराणिक महत्व है। इनमें सबसे महत्वपूर्ण है कि भक्त बाबा के बाद मां की पूजा करते हैं। भक्त विष्णु के छठे अवतार भगवान राम ने त्रेतायुग में राजा दशरथ के घर माता कौशल्या के गर्भ से जन्म लिया।इस अवतार में भगवान विष्णु ने बहुत से राक्षसों को मार डाला और शिष्टाचार का पालन किया। हनुमान, भगवान विष्णु का ग्यारहवां रुद्र अवतार, राम का सबसे बड़ा भक्त माना जाता है। इन दोनों का एक साथ स्थान होने से इस मंदिर की विशिष्टता है।

- Advertisement -

जहां लोग घण्टों तक कतार में खड़े होकर भगवान राम, सीता, लक्ष्मण, भरत, शत्रुद्धन और हनुमान की पूजा करते हैं। 1782 से 1792 के बीच, पूर्व सरदार पंडा स्वर्गीय श्रीश्री रामदत्त ओझा ने इस मंदिर का निर्माण कराया। मुख्य मंदिर के पीछे पश्चिम की ओर यह मंदिर है। इस मंदिर में हनुमान और राम की पूजा का महत्व है।

हनुमान और राम दरबार की होती है पूजा
हनुमान और राम दरबार की होती है पूजा

राम मंदिर लगभग 60 फीट लंबा और 35 फीट चौड़ा है। राम मंदिर के शिखर पर पहला तांबे का कलश लगाया गया था। इसके ऊपर एक पंचशूल भी है। शिखर के गुंबद के नीचे रंगों से भरा हुआ है। यह मंदिर अन्य मंदिरों से अलग बना है। इस मंदिर के बाहर तीन हनुमान की आकृति हैं। भक्त राम सीता के प्रांगण में प्रवेश करने के लिए पहले दो सीढ़ियों को पार करना होगा। भक्त सामने पीतल के दरवाजे को प्रणाम करते हैं और गर्भगृह में प्रवेश करते हैं।

जहां राम के साथ दो मूर्ति हैं। भरत और शत्रुद्धन बीच में भगवान राम के चरण के पास। बाई ओर भगवान राम की मूर्ति, दाई ओर मां सीता की मूर्ति और दाई ओर लक्ष्मण की मूर्ति। मुद्रा की काले पत्थर की बनी भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की मूर्ति वहीं खड़ी है। भक्तों, पुजारी के पास एक ही प्रवेश द्वार है।

- Advertisement -

ओझा परिवार मंदिर राज्य इस मंदिर में पूजा करता है। यहां भगवान राम, सीता और लक्ष्मण वैदिक तरीके से पूजे जाते हैं। ईमानदार लोग वर्षों भर भगवान की पूजा कर सकते हैं। लेकिन चैत्र शुक्ल पक्ष की रामनवमी की पूजा अलग है। इस दिन राज्य मंदिर को विशेष पूजा देता है।इसके अलावा, फलाहारी परिवार रामनवमी के दिन भगवान का विशेष श्रृंगार करता है। फलाहारी परिवार के सदस्य इस मंदिर में प्रवेश करते ही भगवान राम मंदिर के प्रांगण में अपने यजमान को संकल्प पूजा करने के लिए अपने गद्दी पर बैठ जाते हैं।

Share This Article
Follow:
मेरा नाम राजा विश्वकर्मा है और मैं पिछले कुछ महीनो से इस वेबसाइट 'JoharUpdates' में लेखक के रूप में काम कर रहा हूँ। मैं झारखण्ड के अलग-अलग जिलों से खबरों को निकलता हूँ और उन्हें इस वेबसाइट की मदद से प्रकाशित करता हूँ। मैंने इससे पहले कोई और जगहों पर काम किया हुवा है और मुझे लेख लिखने में 2 सालो का अनुभव है। अगर आपको मुझसे कुछ साझा करना हो या कोई काम हो तो आप मुझे "bulletraja123domcanch@gmail.com" के जरिये मुझसे संपर्क कर सकते है।
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *