कोडरमा : सदर अस्पताल के डॉक्टर के निजी स्टाफ पर ऑपरेशन के बदले पैसे लेने का आरोप

Tannu Chandra
3 Min Read
सदर अस्पताल के डॉक्टर के निजी स्टाफ पर ऑपरेशन के बदले पैसे लेने का आरोप

Koderma : सदर अस्पताल में ऑपरेशन करने के एवज में डॉक्टर से पैसे लेने का मामला सामने आया है। बताते चलें कि 1 नवंबर 2023 को 45 वर्षीय मोहम्मद मुस्तकीम अंसारी (पिता जुमन मियां पुरनाडीह डोमचांच) एक सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गया था।

Whatsapp ChannelJoin
TelegramJoin

इलाज के लिए उन्हें सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। उक्त घटना में मोहम्मद मुस्तकीम अंसारी के दोनों हाथ गंभीर रूप से घायल हो गए। 7 नवंबर मंगलवार की शाम को हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. धनंजय कुमार ने इसका ऑपरेशन किया। गुरुवार को उन्हें सदर अस्पताल से निकाला गया।

मरीज के परिजनों ने आरोप लगाया कि ऑपरेशन से पहले डॉक्टर के निजी कर्मचारियों ने 5 हजार रुपये लिए

घायल मरीज के परिजन शमशाद अंसारी का आरोप है कि डॉक्टर धनंजय कुमार के कर्मचारी पमपम ऑपरेशन के बदले पैसे मांगते रहे। उन्होंने कहा कि सदर अस्पताल में व्यवस्था नहीं है, इसलिए कुछ सामान बाहर से लाना होगा, जिसके लिए आपको बारह हजार रुपये देने होंगे। बहुत सी मिन्नत के बाद बात पांच हजार में हुई। शमशाद ने बताया कि मंगलवार 7 नवंबर की दोपहर बताए गए पे-फोन नंबर पर 5 हजार रुपये भेजकर अपना स्क्रीनशॉर्ट भेजा। मरीज को शाम पांच बजे ऑपरेशन किया गया।

सदर अस्पताल के डॉक्टर के निजी स्टाफ पर ऑपरेशन के बदले पैसे लेने का आरोप
कोडरमा : सदर अस्पताल के डॉक्टर के निजी स्टाफ पर ऑपरेशन के बदले पैसे लेने का आरोप 3

शमशाद ने कहा कि मुस्तकीम अंसारी का पैसा कम है। पत्थर खदान में काम करके परिवार चलाता था। मुस्तकीम खदान से काम कर लौटते समय एक बाइक दुर्घटनाग्रस्त हो गई, जिससे वह घायल हो गया। गरीबी के कारण सदर अस्पताल में इलाज कराने पहुंचा था, लेकिन वहां भी पैसे ले लिये।

कोडरमा पुलिस को अस्पताल प्रबंधन ने सौंपा, थाने से ही छूट गया

डॉ. धनंजय कुमार के निजी क्लिनिक के कर्मचारी पमपम ने गुरुवार को अस्पताल प्रबंधन को ऑपरेशन के बदले मरीज के परिवार से धन की मांग की। इसके बाद अस्पताल के सुरक्षाकर्मी ने उसे गिरफ्तार कर लिया। अस्पताल प्रबंधन ने उसे कोडरमा पुलिस को सौंप दिया। सूत्रों के अनुसार, थाने में उसके खिलाफ कोई शिकायत नहीं की गई थी, इसलिए उसे कोडरमा थाने से छोड़ दिया गया।

डॉ. धनंजय कुमार, हड्डी रोग विशेषज्ञ, क्या कहते हैं

डॉ. धनंजय कुमार ने बताया कि पमपम करीब दो सप्ताह पहले मेरे निजी क्लीनिक में प्रवेश किया था। मैंने मरीज के परिजन से पैसे लेने की शिकायत करने के बाद उसे नौकरी से निकाल दिया है। अस्पताल प्रबंधन ने भी उसे पुलिस को सौंप दिया था।

क्या अस्पताल उपाधीक्षक ने कहा

डॉ. रंजीत कुमार, अस्पताल उपाध्यक्ष, ने बताया कि एक व्यक्ति को पैसे की धोखाधड़ी की शिकायत मिली। उसे पुलिस को सौंप दिया गया। ऑपरेशन के दौरान पांच हजार रुपये लेने का मामला जांच किया जाएगा।

Categories

Share This Article
Follow:
मैं Tannu Chandra, मुझे ऑटोमोबाइल "बाइक्स" में पिछले 3 वर्षो का अनुभव है, मुझे बाइक्स और गाड़िओ का ब्लॉग लिखना बहुत पसंद है इसलिए मैं India07.com में एक राइटर के रूप में काम कर रही हूँ और बचे समय में Joharupdates के लिए अपने आस-पास के न्यूज़ को भी साझा कर देती हूँ।
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *